सबसे अधिक लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति

बचत योजनाएं

बचत योजनाएं

PO की ऐसी निवेश योजना, जो देती है बैंक से अधिक ब्याज, जाने क्या है डाकघर बचत योजना

indian post office, tds

व्यापार, डेस्क रिपोर्ट। मध्यमवर्ग वर्तमान के साथ-साथ भविष्य की चिंता में भी रहते है। इसलिए वह वर्तमान के साथ-साथ भविष्य (Future plan) को सुरक्षित रखने के लिए निवेश नीति को ढूंढते हैं। ऐसे निवेश नीति (Investment Policy), जिसमें रकम लगाने के बाद उन्हें अच्छे रिटर्न (Good return) के साथ-साथ भविष्य का सुरक्षात्मक जरिया भी उपलब्ध हो। Post Office Fixed Deposit का भारत के मध्यम वर्ग और वरिष्ठ नागरिकों के साथ एक अनूठा रिश्ता है। सबसे लंबे समय तक, फिक्स्ड डिपाजिट भारतीय मध्यम वर्ग के लिए निवेश का विकल्प था।

निश्चित और अच्छी रिटर्न दरों वाली अच्छी योजनाओं में निवेश करना औसत मध्यवर्गीय भारतीय के लिए सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है। कम रिटर्न वाला वित्तीय निवेश उपकरण होने के बावजूद, FD को उनके जोखिम-मुक्त प्रकृति के कारण अन्य विकल्पों के ऊपर पसंद किया जाता है। वे ग्राहकों की जरूरतों और आवश्यकताओं के आधार पर अल्पावधि और लंबी अवधि दोनों के लिए पैसा निवेश करने के विकल्प के साथ दिए जाते हैं।

बैंकों के अलावा डाकघर द्वारा FD योजनाएं भी प्रदान की जाती हैं जो कुछ मामलों में प्रमुख उधारदाताओं की तुलना में बेहतर ब्याज दर प्रदान करती हैं। बाजार की स्थिति और सरकार की नीतियों के आधार पर दरों को तिमाही संशोधित किया जाता है। डाकघर बचत योजनाएं FD की तुलना में अधिक उपज देने वाले निवेश साधन हैं। जबकि सावधि जमा बैंकों द्वारा समर्थित हैं, ब्याज दर और कर लाभ डाकघर बचत योजनाओं के रूप में महान नहीं हैं।

Read More :

डाकघर विभिन्न प्रकार की बचत योजनाएं प्रदान करता है जो मध्यम वर्गीय भारतीय परिवारों के लिए फायदेमंद हैं। उनमें से एक बचत योजनाएं राष्ट्रीय बचत सावधि जमा खाता (टीडी) है। सरकारी गारंटी के अलावा, डाकघर सावधि जमा बैंकों की तुलना में उच्च ब्याज दरों सहित कई तरह के लाभ प्रदान करता है।

पोस्ट ऑफिस FD विशेषताएं

एक पोस्ट ऑफिस एफडी खाता न्यूनतम 1000 रुपये और 100 रुपये के गुणकों में खोला जा सकता है। इन खातों में निवेश की कोई अधिकतम सीमा नहीं है। डाकघर की वेबसाइट के अनुसार इस मामले में ब्याज का भुगतान सालाना किया जाएगा। India Post की वेबसाइट के अनुसार उस ब्याज की राशि पर कोई अतिरिक्त ब्याज नहीं लगाया जाएगा। जो भुगतान के लिए देय है लेकिन खाताधारक द्वारा वापस नहीं लिया गया है। हालांकि, यह ब्याज तिमाही चक्रवृद्धि होगी।

पोस्ट ऑफिस FD ब्याज़ दर

डाकघर FD दरों को आम तौर पर त्रैमासिक रूप से बढ़ाया जाता है। हालांकि अभी वो वे 1 अप्रैल, 2020 से अपरिवर्तित बनी हुई हैं। एक साल की FD योजना के लिए 5.5 प्रतिशत ब्याज दर से शुरू होकर डाकघर सावधि जमा पर वापसी की दर 6.7 प्रतिशत तक जाती है।

कोरोना की नई लहर में वरिष्ठ नागरिक बचत योजना में निवेश फायदे का सौदा

कोरोना संकट के बाद भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में बड़ी कटौती की है। इसका असर सावधि जमा (एफडी) समेत तमाम दूसरे निवेश माध्यम पर पड़ा है। सरकार ने भी पीपीएफ समेत तमाम छोटी बचत योजनाओं की.

कोरोना की नई लहर में वरिष्ठ नागरिक बचत योजना में निवेश फायदे का सौदा

कोरोना संकट के बाद भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में बड़ी कटौती की है। इसका असर सावधि जमा (एफडी) समेत तमाम दूसरे निवेश माध्यम पर पड़ा है। सरकार ने भी पीपीएफ समेत तमाम छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में एक बड़ी कटौती के फैसले को वापस लिया है। आने वाले समय में कभी भी दरें घट सकती हैं। इसके बावजूद वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (एससीएसएस) में 7.4 फीसदी का ब्याज मिल रहा है जो सामान्य एफडी से करीब 1.5 फीसदी अधिक है। ऐसे में विशेषज्ञों का कहना है कि एससीएसएस में अभी निवेश करना फायदे का सौदा हो सकता है।

स्पेशल एफडी की पेशकश

कोरोना संकट के बीच जमा पर घटी ब्याज से वरिष्ठ नागरिकों को राहत देने के लिए देश के कई बड़े बैंक स्पेशल स्कीम लेकर आए हैं। इसके तहत वह वरिष्ठ नागरिकों द्वारा कराए गए एफडी पर अधिक ब्याज की पेशकश कर रहे हैं। फिलहाल जो बैंक वरिष्ठ नागरिकों के लिए स्पेशल एफडी ऑफर कर रहे हैं, उनमें एसबीआई, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और बैंक ऑफ बड़ौदा (बीओबी) शामिल हैं।

एसबीआई दे रहा सबसे ऊंचा ब्याज

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) आम लोगों की तुलना में वरिष्ठ नागरिकों को 80 आधार अंक ज्यादा ब्याज दे रहा है। अभी एसबीआई सामान्य स्थिति में पांच साल की सावधि जमा (एफी) पर 5.4 फीसदी की दर से ब्याज दे रहा है। जबकि वरिष्ठ नागरिकों को 6.20 फीसदी की दर से ब्याज दिया जा रहा है। इसके अलावा एसबीआई ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक स्पेशल फिक्स्ड डिपॉडिट स्कीम शुरू की है जिसका नाम वी केयर डिपॉजिट योजना है। इस योजना में निवेश करने वाले वरिष्ठ नागरिकों को बैंक 7.4 फीसदी सालाना ब्याज दे रहा है। यह सामान्य एफडी की तुलना में दो फीसदी अधिक है। जबकि वरिष्ठ नागरिकों वाली श्रेणी में भी 1.20 फीसदी अधिक है। बैंक ऑफ बड़ौदा वरिष्ठ नागरिकों को एफडी पर 6.25 फीसदी की दर से ब्याज दे रहा है। इस स्कीम में 60 साल या इससे अधिक उम्र का व्यक्ति निवेश कर सकते हैं। यह स्कीम पांच साल या इससे अधिक की अवधि के लिए होती है। वहीं, स्कीम में अधिकतम जमा राशि दो करोड़ रुपये है।

निजी बैंकों में भी लुभाने की होड़

एचडीएफसी बैंक वरिष्ठ नागरिकों को जमा राशि पर 0.75 फीसदी ज्यादा ब्याज दे रहा है। अगर कोई वरिष्ठ नागरिक एचडीएफसी बैंक के सीनियर सिटीजन केयर एफडी के तहत एफडी करता है, तो उसपर 6.25 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगी। एचडीएफसी की दर स्टेट बैंक से .05 फीसदी ज्यादा है। निजी क्षेत्र का बैंक आईसीआईसीआई बैंक भी वरिष्ठ नागरिकों को एफडी पर 0.80 फीसदी ज्यादा ब्याज दे रहा है। बैंक की तरफ से वरिष्ठ नागरिकों को 6.30 फीसदी ब्याज दिया जा रहा है। यह ब्याज दर स्टेट बैंक और एचडीएफसी बैंक से ज्यादा है। बैंक ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए स्पेशल एफडी स्कीम आईसीआईसीआई बैंक गोल्डन ईयर्स पेश की है।

कोरोना टीका लगवाने पर ज्यादा ब्याज की पेशकश

कोरोना टीकाकरण के लिए लोगों को प्रोत्साहित करने में अब बैंकों ने भी अभियान छेड़ दिया है। सरकारी क्षेत्र के सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया ने कोरोना टीका लगवाने वाले ग्राहकों को एफडी पर 0.25 ज्यादा ब्याज की पेशकश की है। वहीं वरिष्ठ नागरिकों को 0.50 फीसदी ज्यादा ब्याज देगा। बैंक ने इम्यून इंडिया डिपॉजिट नाम से विशेष एफडी शुरू की है। इसमें 1111 दिन यानी तीन साल 16 दिन के लिए निवेश करना होगा। विशेषज्ञों का कहना है कि आने वाले समय में सरकारी और निजी क्षेत्र के अन्य बैंक भी इस तरह की पहल शुरू कर सकते हैं।

बचत योजनाएं

आज भी डाकघर की बचत योजनाएं सर्वाधिक लोकप्रियः पोस्टमास्टर जनरल

-राष्ट्रीय डाक सप्ताह में डाक विभाग ने मनाया वित्तीय सशक्तिकरण दिवस

-वित्तीय समावेशन के तहत हर व्यक्ति को डाकघर बचत व बीमा योजनाओं से जोड़ने पर जोर

वाराणसी, 10 अक्टूबर (हि.स.)। वित्तीय सशक्तिकरण को समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने में डाकघरों की अहम भूमिका है। आज भी डाकघर की बचत योजनाएं सर्वाधिक लोकप्रिय हैं और इनमें लोग पीढ़ी-दर-पीढ़ी निवेश करते आ रहे हैं। डाकघरों में एक ही छत के नीचे बचत, डाक जीवन बीमा और इण्डिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक की सुविधा होने से लोगों को निवेश के ढेरों विकल्प उपलब्ध है। सोमवार को यह बातें वाराणसी परिक्षेत्र के पोस्टमास्टर जनरल श्री कृष्ण कुमार यादव ने कहीं। मौका रहा राष्ट्रीय डाक सप्ताह के तहत वाराणसी प्रधान डाकघर में आयोजित वित्तीय सशक्तिकरण दिवस का। डाक विभाग द्वारा वाराणसी, जौनपुर, भदोही, चंदौली, गाजीपुर, बलिया जनपदों में अभियान चलाकर सुकन्या समृद्धि डाक बचत योजना, इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक और डाक जीवन बीमा से अधिकाधिक लोगों को जोड़ा गया।

इस अवसर पर प्रवर अधीक्षक डाकघर राजन संग पोस्टमास्टर जनरल ने लाभार्थियों को पासबुक और बॉन्ड भी सौंपे। पोस्टमास्टर जनरल श्रीकृष्ण कुमार यादव ने कहा कि वित्तीय समावेशन के आर्थिक के साथ-साथ सामाजिक आयाम भी महत्वपूर्ण है। वाराणसी परिक्षेत्र के सभी 274 डाकघरों को सीबीएस प्लेटफॉर्म पर माइग्रेट किया जा चुका है। डाकघरों में बचत खाता, आवर्ती जमा खाता, पीपीएफ, सीनियर सिटीजन बचत खाता, मासिक आय योजना, सावधि जमा खाता, एनएससी, केवीपी और सुकन्या समृद्धि योजना उपलब्ध हैं। हाल ही में भारत सरकार द्वारा लघु बचत योजनाओं को बढ़ावा देने के लिए टीडी, एमआईएस, वरिष्ठ नागरिक बचत योजना और किसान विकास पत्र की ब्याज दरों में भी वृद्धि की गई है। सुकन्या समृद्धि योजना जहां बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ को धार दे रही है। वहीं, इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक के माध्यम से डाकिया अब चलते-फिरते बैंक बन गए हैं। उन्होंने बताया कि वाराणसी परिक्षेत्र के डाकघरों में 30 लाख बचत खातेए 2.65 लाख सुकन्या खाते, 5.50 लाख आईपीपीबी खाते संचालित हैं। 755 गांवों को सुकन्या समृद्धि ग्राम और 363 गांवों को सम्पूर्ण बीमा ग्राम बनाया जा चुका है। इस वर्ष अब तक लगभग 7000 लोगों का डाक जीवन बीमा किया जा चुका है। जिससे 5.16 करोड़ रुपये का न्यू प्रीमियम प्राप्त हुआ। वित्तीय सशक्तिकरण के तहत हर व्यक्ति को डाकघर बचत व बीमा योजनाओं से जोड़ने की पहल की जा रही है।

वाराणसी पूर्वी मंडल के प्रवर अधीक्षक डाकघर राजन ने कहा कि 10 साल तक की बेटियों का मात्र 250 रुपये से डाकघर में खुलने वाला सुकन्या समृद्धि योजना सिर्फ निवेश का ही एक माध्यम नहीं है। बल्कि यह बालिकाओं के उज्ज्वल व समृद्ध भविष्य से भी जुड़ा हुआ है। इस योजना में एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम डेढ़ लाख रुपये जमा किये जा सकते हैं।

इस अवसर पर बचत बैंक क्विज भी आयोजित किया गया, जिसमें महिला अभिकर्ता मंजू देवी, डायरेक्ट एजेंट अमन कुमार गुप्ता, महिला अभिकर्ता मधु सिंह को क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय पुरस्कार से पोस्टमास्टर जनरल ने सम्मानित किया।

Small Savings Scheme में निवेश करने वालों के लिए खुशखबरी, सरकार ने बढ़ाई ब्याज दरें, इन्हें मिलेगा फायदा

डाकघर की वरिष्ठ नागरिक बचत योजना के लिए ब्याज दरों में सरकार ने 20 बेसिस प्वाइंट का इजाफा कर दिया है. यानी पहले इस योजना के तहत 7.4 फीसदी ब्याज मिलता था. लेकिन अब इसमें 20 बेसिक प्वाइंट का इजाफा कर दिया है जिसके बाद इस योजना में अब ब्याज दर बढ़कर 7.6 हो गया है.

Post Office Small Savings Scheme

Post Office Small Savings Scheme: डाकघर में स्मॉल सेविंग स्कीम्स में निवेश करने वालों के लिए बड़ी खुशखबरी है. सरकार ने स्मॉल सेविंग स्कीम्स की ब्याज दरों में इजाफा कर दिया है. यानी अगर आप डाकघरों में तीन साल के लिए सावधि जमा करते हैं तो आपको 5.8 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा. इससे पहले इस स्कीम में 5.5 फीसदी ब्याज दर मिलता था. सरकार ने वित्तीय वर्ष की तीसरी तिमाही के लिए इस स्कीम के तहत मिलने वाले ब्याज दर में 30 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी कर दी है.

डाकघर की वरिष्ठ नागरिक बचत योजना: इसी कड़ी में डाकघर की वरिष्ठ नागरिक बचत योजना के लिए ब्याज दरों में सरकार ने 20 बेसिस प्वाइंट का इजाफा कर दिया है. यानी पहले इस योजना के तहत 7.4 फीसदी ब्याज मिलता था. लेकिन अब इसमें 20 बेसिक प्वाइंट का इजाफा कर दिया है जिसके बाद इस योजना में अब ब्याज दर बढ़कर 7.6 हो गया है. वहीं, वित्त मंत्रालय ने इस बढोतरी को लेकर बचत योजनाएं कहा है कि यह वित्तीय वर्ष की तीसरी तिमाही के लिए की गई है.

योजना की खासियत: डाकघर वरिष्ठ नागरिक बचत योजना की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इस योजना के तहत आप जिस दिन से जमा शुरू करते हैं, उसके तीन महीने बाद आपको रिटर्न मिलने लगता है. वहीं, ब्याज की रकम निवेशक के खाते में ऑटो क्रेडिट हो जाती है. इस योजना में कम से कम एक हजार रुपये से लेकर अधिकतम 15 लाख रुपये जमा किये जा सकते हैं. इस स्कीम की मैच्योरिटी 5 सालों की है, जिसे बढ़ाकर 8 साल किया जा सकता है.

योजना के तहत कौन खोल सकता है खाता: इस योजना में 60 साल से अधिक आयु का व्यक्ति खाता खोल सकता है. वहीं 55 साल से अधिक और 60 साल से कम आयु के सेवानिवृत्त सिविल कर्मचारी इस शर्त के अधीन की सेवानिवृत्ति के लाभ की प्राप्ति के 1 महीने के भीतर निवेश कर सकते हैं, खाता खोल सकते हैं. वहीं, खाता व्यक्तिगत क्षमता के रूप में या सिर्फ पति या पत्नी के साथ खोला जा सकता है. एक संयुक्त खाते में जमा की पूरी राशि सिर्फ पहले खाताधारक को ही देय होगी.

Prabhat Khabar App :

देश, दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, टेक & ऑटो, क्रिकेट और राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Post Office New Scheme : डाकघर की इस स्कीम में हर रोज जमा करें 95 रुपये, 10 लाख रुपये बोनस के साथ मिलेंगे 14 लाख

Post Office New Scheme : डाकघर की इस योजना में हर रोज जमा 95 रुपये जमा करें. परिपक्वता पर आपको 10 लाख रुपये बोनस के साथ 14 लाख रुपये मिलेंगे. इस पॉलिसी की अवधि 15 और 20 वर्ष है. पॉलिसी लेने के लिए आपकी आयु कम से कम 19 वर्ष होनी चाहिए.

Updated: September 1, 2022 1:51 PM IST

Post Office Scheme

Post Office New Scheme : आज भी देश का एक बड़ा वर्ग डाकघर योजना पर बहुत भरोसा करता है. डाकघर अपने ग्राहकों के लिए विभिन्न योजनाएं चलाता है. डाकघर में आम लोगों के लिए ऐसी कई छोटी बचत योजनाएं हैं. जिसमें आपको शानदार रिटर्न मिल सकता है. ऐसे ही एक डाकघर में सुमंगल ग्रामीण डाक जीवन बीमा योजना है. अगर आप इस योजना के तहत रोजाना 95 रुपये जमा करते हैं. फिर इसकी मैच्योरिटी पर आपको 14 लाख रुपये मिल सकते हैं.

Also Read:

यह योजना विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को ध्यान में रखकर तैयार की गई है. इस योजना के साथ-साथ बीमित व्यक्ति के जीवित रहने पर भी मनी बैक योजना का लाभ मिलता है. मनी बैक का मतलब है कि जिसने भी निवेश किया है उसे सारा पैसा वापस मिल जाएगा. इसके साथ बीमा कवर भी उपलब्ध है.

बोनस प्राप्त करें

सुमंगल ग्रामीण डाक जीवन बीमा योजना बीमा योजना आपकी वित्तीय जरूरतों को पूरा कर सकती है. यह एक बंदोबस्ती योजना है. इसकी शुरुआत वर्ष 1995 में हुई थी. इस योजना के तहत छह अलग-अलग बीमा योजनाएं पेश की जाती हैं. यह योजना उन लोगों के लिए बहुत अच्छी है. जिन्हें समय-समय पर पैसों की जरूरत होती है. इसके तहत 10 लाख रुपये की बीमा राशि मिलती है यानी अगर पॉलिसी धारक की मृत्यु हो जाती है तो उसके परिवार को 10 लाख रुपये प्लस बोनस राशि मिलेगी.

जानें- क्या हैं इस स्कीम के फायदे

इस पॉलिसी की अवधि 15 और 20 वर्ष है. पॉलिसी लेने के लिए आपकी आयु बचत योजनाएं कम से कम 19 वर्ष होनी चाहिए. 15 साल की पॉलिसी के तहत, बीमित राशि का 20-20 फीसदी छह, नौ और 12 साल पूरे होने पर मनी-बैक के रूप में दिया जाएगा. शेष 40 प्रतिशत राशि बोनस के साथ परिपक्वता पर प्राप्त होगी. इसी तरह 20 साल की पॉलिसी के तहत आठ, 12 और 16 साल पर 20-20 फीसदी राशि मनी बैक के रूप में मिलेगी. शेष 40 प्रतिशत राशि मैच्योरिटी पर बोनस के साथ उपलब्ध होगी.

किस्त देनी होगी

अगर किसी व्यक्ति ने 25 साल की उम्र में 7 लाख की बीमा राशि के साथ 20 साल के लिए यह पॉलिसी ली है. फिर ऐसे में 95 रुपये प्रतिदिन यानी 2850 रुपये प्रति माह किस्त के रूप में चुकाने होंगे. तीन महीने की किस्त भरने पर 8,850 रुपये और 6 महीने के लिए 17,100 रुपये देने होंगे. इसके बाद आपको मैच्योरिटी पर करीब 14 लाख रुपये मिलेंगे.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

रेटिंग: 4.29
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 73
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *