सबसे अधिक लाभदायक विदेशी मुद्रा रणनीति

डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया

डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया
यह खाता भी एन आर आई के लिए होता है परंतु इस खाते से कोई भी विदेश में फंड ट्रांसफर नहीं किए जा सकते। इस खाते में लोगों को एनआरओ बैंक अकाउंट की आवश्यकता नहीं पड़ती है। यह खाता वह लोग खोलते हैं जिनकी आय भारत और विदेश दोनों में उपलब्ध है।

Demat Account

Demat Account क्या है और डीमैट अकाउंट कैसे खोलें ?

दोस्तों आज हम आपको Demat Account के बारे में बताएंगे कि डिमैट अकाउंट क्या होता है और यह अकाउंट हम कैसे खोलें दोस्तों आज के जमाने में बहुत कम लोग होंगे जिन्होंने शेयर मार्केट के बारे में नहीं सुना होगा और जो लोग शेयर मार्केट के बारे में जानते हैं उन्हें यह भी पता होता है कि डीमैट अकाउंट क्या है डिमैट अकाउंट में शेयर होल्डर अपने शेयर रखता है जैसे कि हम बैंक अकाउंट में अपने पैसे रखते हैं और शेयर की खरीद-फरोख्त इन्वेस्टर इसी अकाउंट के द्वारा करता है जो डिपॉजिटरी द्वारा खोला जाता है और इससे जुड़ी सभी बातें हैं इस के क्या फायदे हैं डिमैट डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया अकाउंट कैसे खोला जाता है और कहां खोला जाता है Demat Account से जुड़ी सभी जानकारी हम आपको दे रहे हैं जो निम्नलिखित है।

Table of Contents

डीमैट अकाउंट क्या है ?

डिमैट अकाउंट एक ऐसा अकाउंट है जिसमें आपके द्वारा खरीदे गए शेयर डिपॉजिट किए जाते हैं और इसके साथ साथ म्यूच्यूअल फंड, डिवेंचर, यूनिट और सिक्योरिटी भी इसी खाते में होती है शेयर की खरीद-फरोख्त करने के लिए आपके पास एक डिमैट अकाउंट का होना बहुत जरूरी है Demat Account एक बैंक अकाउंट की तरह कार्य करता है जिसमें आपकी रकम नहीं होती बल्कि किसी कंपनी के शेयर होते हैं जब आप किसी कंपनी के शेयर को बेचना चाहते हैं तो यह दूसरे निवेशक के अकाउंट में यहीं से ट्रांसफर हो जाते हैं

जिस प्रकार आप बैंक अकाउंट से मनी ट्रांसफर करते हो। इससे डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया पहले यह प्रक्रिया बड़ी मुश्किल थी पहले जब आप शेयर खरीदते थे तो आपको कंपनी उसके डॉक्यूमेंट देती थी और जब आपको शेयर बेचने होते थे तो सारे कागजात कंपनी में डिपॉजिट करने पड़ते थे लेकिन जब से डिपॉजिटरी ने Demat Account की प्रक्रिया को शुरू किया है यह काम बहुत आसान हो गया है।

डीमैट अकाउंट के प्रकार क्या है?

शेयर मार्केट में उपलब्ध तीन प्रकार के डीमैट अकाउंट होते हैं। इन अकाउंट को निवेशकों डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया की प्रोफाइल के हिसाब से तैयार किया जाता है। डीमैट अकाउंट के प्रकार निम्नलिखित हैं।

रेगुलर डीमैट खाता (Regular Demat A6ccount)

शेयर बाजार में एंट्री करने वाले निवेशक को का रेगुलर डीमैट अकाउंट खोला जाता है। यह खाता आप किसी भी डिपॉजिट सीडीएसएल या एनएसडीएल पन रजिस्टर ब्रोकर के पास खुलवा सकते हैं। इस खाते के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिकली शेयरों में निवेश और ट्रेड किया जाता है।

रिपेट्रायबल डीमैट खाता (Repatriable Demat Account)

यह खाता नॉनरेजिडेंट इंडियंस के लिए होता है। इस खाते के माध्यम से n.r.i. शेयर बाजार में निवेश करते हैं। एन आर आई इस अकाउंट का उपयोग करके विदेश में फंड ट्रांसफर कर सकते हैं। साथ ही साथ लोग इस अकाउंट इन इयर जॉइंट होल्डर भी शामिल कर सकते हैं जो केवल एक भारतीय नागरिक होना चाहिए। इस डीमैट खाते में नॉमिनेशन सुविधा भी उपलब्ध होती है।

Demat Account कैसे खोलें

जब आप अपना खाता डिपॉजिटरी में खुलवाते हैं तो उस खाते को डीमैट खाता कहते हैं इसका फैसला हमारा ब्रोकर करता है कि वह कौन सी डिपॉजिटरी में आपका खाता खुलवाता है इस खाते को खुलवाने के लिए भारत में एसईबीआई के द्वारा निर्देशित दो बड़ी डिपॉजिटरी कंपनी एनएसडीएल और सीडीएसएल है जो Demat Account को निर्धारित करती हैं और आपने देखा होगा कि पैन कार्ड भी यही दोनों कंपनियां बनाती हैं। जो निम्नलिखित हैं।

1- एनएसडीएल

इंडिया की सबसे पुरानी और विश्वसनीय डिपाजिटरी मानी जाती है नवंबर सन 1996 में इसको शुरू किया गया था जिसका पूरा नाम National Securities Depositories Ltd है।

2- सीडीएसएल

  • यह इंडिया की दूसरी डिपॉजिटरी है जिसका संबंध बीएसई यानी मुंबई स्टॉक एक्सचेंज से है इसको फरवरी सन 1999 में शुरू किया गया था इसका पूरा नाम Central Depositories Services Ltd है ।
  • डिमैट अकाउंट खुलवाने के लिए आपको इन दोनों कंपनियों के पास जाने की आवश्यकता नहीं होती है आप किसी भी बैंक या स्टॉक ब्रोकर के पास जाकर अपना डिमैट अकाउंट खुलवा सकते हैं।

डीमैट खाता क्या होता है के लाभ विकिपीडिया

demat khata kya hota hai अगर आप शेयर मार्केट में पैसे कमाना चाहते है तो आपके पास डीमैट खाता होना जरुरी है इसलिए आज हम आपको sbi डीमैट अकाउंट के बारे में बता रहे है जैसे sbi डीमैट अकाउंट क्या है और इसके क्या लाभ है. एक शेयर होल्डर अपना पैसा शेयर खरीदने में उस समय लगा सकता है जब उसके पास डीमैट खाता हो अगर आपके पास डीमैट खाता नहीं है तो sbi के डीमैट खाता के लाभ जरुर पढ़ना चाहिए.

demate khata ke labh

डीमैट खाता क्या होता है ?

जब भी कोई व्यक्ति शेयर मार्केट में इन्वेस्टमेंट करने के लिए सोचता है तो उसे यह पता होना चाहिए की शेयर मार्केट में इन्वेस्टमेंट करने के लिए तीन खाते चाहिए बैंक खाता, डीमैट खाता और ट्रेडिंग खाता. अगर आपके पास डीमैट खाता है लेकिन ट्रेडिंग खाता नहीं तो आपका डीमैट खाता अधूरा माना जाएगा. आपको बता दे डीमैट खाते में कोई भी शेयर डिजिटल रूप में रख सकते है वही ट्रेडिंग खाते में आप शेयर, म्युचुवल फण्ड और गोल्ड में निवेश कर सकते है फिर इन्हें आप डीमैट खाते में भी रख सकते है .

डीमैट में शेयरों के रखरखाव का काम डेपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (डीपी) करते हैं. इनमें नेशनल सिक्योरिटी डिपॉजिटरी लिमिटेड (एनएसडीएल) और सेंट्रल डिपॉजटरी सर्विसेज लिमिटेड (सीडीएसएल) शामिल हैं.

अब आपको पता है डीमैट खाता क्या होता है और सभी डीमैट खाते एक जैसे ही होते है लेकिन sbi डीमैट खाते डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया से आपको कुछ लाभ प्राप्त होते है जो आपको हम बताने वाले है

डीमैट खाता के लाभ विकिपीडिया ?

  • अपने शेयर को भौतिक रूप से रख सकते है और इसमें आपको किसी तरह की समस्या नहीं होती
  • शेयर खरीदा और बेचना आसान हो जाता है
  • हस्तांतरण आप करते है तो आपसे किसी तरह का स्टाम्प ड्यूटी नहीं लिया डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया जाता
  • आपका sbi में डीमैट खाता है तो आप कभी भी sbi कस्टमर केयर के माध्यम से डीमैट खाते की जानकारी प्राप्त कर सकते है.
  • डीएमएटी खाता किसी भी समय एसबीआई की 1000 से अधिक डीमैट सक्षम शाखाओं से संचालित किया जा सकता है
  • sbi के कस्टमर कभी भी इमेल के माध्यम से खाता का विवरण और बिल प्राप्त कर सकते है .
  • SBI अपने कस्टमर को ऑनलाइन सर्विस भी देती है तो आप घर से या ऑफिस से डीमैट सेवा को शुरू कर सकते है .
  • ऑनलाइन डीमैट स्‍टेटमेंट उपयोगकर्ताओं को डीमैट खाता विवरण, होल्डिंग्स का बयान, लेनदेन का बयान और ऑनलाइन बिलिंग विवरण देने की अनुमति देता है
  • ग्राहक सेवा निर्देशक पुस्तक आप ऑनलाइन आर्डर कर सकते है यह आपके घर तक आपके दरवाजे पर पंहुचा दिया जाता है .
  • डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया
  • कस्टमर क्रेडिट/डेबिट के साथ साथ और किसी अनुरोध के लिए जैसे sms alert प्राप्त कर सकते है जिसे प्रोसीड नहीं किया जा सकता है .
  • यदि आप ऑनलाइन ट्रेडिंग सुविधा चाहते हैं, तो आप इसे एसबीआई कैप सिक्योरिटीज लिमिटेड के साथ प्राप्त कर सकते हैं। एसबीआई को अपने पोर्टल पर सूचित करते हुए, यह सेवा आपको 3-इन-1 खाता प्रदान करती है जो एक सुविधाजनक और पेपर मुक्त व्यापार अनुभव देने के लिए बचत बैंक खाता, डीमैट खाता और ऑनलाइन ट्रेडिंग खाता का एक एकीकृत मंच है.

How to Open Demat Account

Demat Account घर बैठे ऑनलाइन तरीके से केवल 15 मिनट में Open कर सकते है, यह बहुत ही आसान प्रक्रिया है। Demat Account भी आपके बैंक खाते की तरह कार्य करता है। यहां भी बैंक बैलेंस की केवल पासबुक में प्रविष्टि कराई जा सकती है, आप इसे भौतिक रूप में रख नहीं सकते, इसकी सुरक्षा भी इलैक्ट्रोनिक तरीके से होती है, और बैंक खाते की तरह ही डैबिट और क्रेडिट होता है। SEBI के गाइडलाइन्स के अनुसार डीमैट को छोड़कर किसी अन्य रूप में शेयरों को बेचा या खरीदा नहीं जा सकता है। इसलिए, अगर आपको शेयर बाजार से स्टॉक खरीदना या बेचना हो तो आपके पास एक Demat Account होना अनिवार्य है।

जब आप शेयर खरीदते हैं, ब्रोकर डीमैट खाते के साथ उसमें शेयर को क्रेडिट कर देता है और यह आपके होल्डिंग के विवरण में दिखने लगता है। अगर आप इंटरनेट आधारित प्लेटफॉर्म से व्यापार करते हैं, तो आप अपनी होल्डिंग्स को ऑनलाइन देख सकते हैं। विशेष रूप से ब्रोकर शेयरों को T+2 पर क्रैडिट कर देता है, जो कि ट्रेडिंग डे + 2 दिन बाद होता है।

Demat Account Open करने के लिए किन चीजे की आवश्यकता होगी ?

डीमैट खाता खोलने के लिए पैन कार्ड अनिवार्य है। एड्रेस प्रूफ के लिए आधार कार्ड या फिर निम्न सूचि में से कोई एक दस्तावेज सादर करें।

  • मोबाइल नंबर
  • ईमेल आईडी
  • Identity proof: PAN card
  • Address proof: एड्रेस प्रूफ के लिए आधार कार्ड या फिर निम्न सूचि में से कोई एक दस्तावेज सादर करें। .
    • वोटर आईडी कार्ड
    • रजिस्टर्ड लीज एग्रीमेंट
    • ड्राइविंग लाइसेंस
    • पासपोर्ट
    • आदर कार्ड
    • लैंडलाइन फ़ोन बिल
    • इलेक्ट्रीसिटी बिल
    • Apartment maintenance bill
    • इन्शुरन्स की कॉपी
    • राशन कार्ड
    • गैस बिल
    • बैंक पासबुक या अकाउंट स्टेटमेंट (3 महीने से अधिक पुराना ना हो)

    Demat Account Open करने की प्रक्रिया

    डीमैट खाता खोलना काफी सीधी प्रक्रिया है। यदि आप एक डीमैट खाता खोलना चाहते हैं, तो यह चरण-दर-चरण मार्गदर्शिका आपको खाता खोलने में मदद कर सकती है।

    Step 1: Depository Participant (DP) चुने –

    डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया में पहले आपको डिपाजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) चुनना होगा। भारत में बैंक्स, स्टॉकब्रोकर्स और Online Investment प्लेटफॉर्म्स डिपाजिटरी पार्टिसिपेंट के रूप में कार्य करते है। परफेक्ट DP चुनने के लिए हमारा यहीं सुझाव रहेगा, की आप सभी सेवा प्रदाताओं सेवाएं और विशेषताओं के जांचे/परखे और आपके जरुरत के अनुसार DP चुने।

    Step 2: Submit Demat Account Opening Form

    अधिकांश DP ऑनलाइन पोर्टल के मदद डीमैट खाता खोलने की सुविधा प्रदान करते है। आपको अपने पसंदिता डिपाजिटरी पार्टिसिपेंट के वेबसाइट पर जाकर ऑनलाइन फॉर्म सादर करना होगा। यह ऑनलाइन प्रक्रिया पूरी तरह से डिजिटल है और आपको किसी भी तरह के डाक्यूमेंट्स डीमैट खाता खोलने की प्रक्रिया की हार्ड कॉपी भेजने की आवश्यकता नहीं है, ना ही सम्बंधित DP के ऑफिस को विजिट करना है।

    Demat account meaning in Hindi | डीमैट खाता क्या है ?

    Demat account meaning in Hindi

    तो जल्दी करिए और यहा से जानिए free मे कैसे खुलवाए अपना Demat और Trading Account.

    अगर आप शेयर बाज़ार से जुड़ी एसी ही जानकारी की Update free मे चाहते है, तो नीचे दिए गए Blue Color के (Subscribe to Updates) के Button को Click करके जो स्क्रीन खुलेगी उसमे yes का विकल्प select कर दीजिए।

    वित्त वर्ष 2020 में रिकॉर्ड 14 करोड़ नए डीमैट खाते खुले

    वित्त वर्ष 2020 में रिकॉर्ड 14 करोड़ नए डीमैट खाते खुले

    देश में कोरोना की दूसरी लहर से आर्थिक संकट गहराने की आशंका है लेकिन इसका असर शेयर बाजार के निवेशकों पर होता नहीं दिख रहा है। वित्त वर्ष 2021 (अप्रैल, 2020 से लेकर मार्च, 2021) में शेयर बाजार से जुड़ने वाले नए निवेशकों की संख्या में रिकॉर्ड वृद्धि दर्ज की गई। नेशनल सिक्योरिटीज डिपॉजिटरी और सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज की साझा रिपोर्ट के अनुसार, वित्त वर्ष 2020-21 में 14.2 करोड़ नए डीमैट खाते खोले गए। नए डीमैट खातों की संख्या इससे पिछले वित्त वर्ष के मुकाबले करीब तीन गुना है।

    बाजार विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना संकट के चलते बैंक जमा से लेकर बॉन्ड और रियल एस्टेट में निवेश पर निवेशकों को कम रिटर्न कम मिला रहा है। वहीं, शेयर बाजार ने जोरदार रिटर्न दिया है। मार्च, 2020 से बीएसई सेंसेक्स ने निवेशकों को 68 फीसदी का रिटर्न दिया है। इसके चलते निवेशक शेयर बाजार की ओर तेजी से आकर्षित हो रहे हैं। वहीं, वर्क फ्रॉम होम और छोटे शहरों में बाजार के प्रति आकर्षण बढ़ने से भी निवेशकों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है।

रेटिंग: 4.15
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 462
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *